WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Youtube Group Join Now

म्युचुअल फंड के फायदे: जी हां म्युचुअल फंड के भी कहीं फायदे हैं लेकिन …..

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Youtube Group Join Now

Table of Contents

म्युचुअल फंड के फायदे: ज्यादा तर लोग अपने पैसे FD में इसलिए रखते हैं क्योंकि उन्हें शेयर मार्केट में निवेश करने से डर लगता है। और इसी डर को दूर करता है म्युचुअल फंड। 

जी हां दोस्तों !!!

म्युचुअल फंड एक ऐसा फंड होता है जिसमें आप और आपके जैसे कई लोग मिलकर अपने पैसे निवेश करते है। फिर उन निवेश किए हुए पैसों को एक्सपट्र्स मैनेज करते हैं। और अच्छी से अच्छी कंपनियों में निवेश करते हैं। जिससे लोगों को ज्यादा से ज्यादा रिटर्न मिल सके। 

म्युचुअल फंड में पैसे निवेश करने से आप सालाना 8 से 12 % तक का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। वहीं अगर आप FD में पैसे निवेश करेंगे तो आप ज्यादा से ज्यादा 5 से 7% ही रिटर्न कमा पाएंगे। 

और वहीं अगर आप खुद से शेयर मार्केट में निवेश करेंगे यानी डायरेक्ट इन्वेस्टिंग ( Direct Investing ) करेंगे तो आप 12 से 25 % तक इंटरेस्ट प्राप्त कर सकते। लेकिन इसमें सबसे ज्यादा रिस्क होता है।

नए निवेशकों को डायरेक्ट इन्वेस्टिंग के बजाय म्युचुअल फंड से शुरुआत करनी चाहिए क्योंकि इसके काफी फायदे होते हैं। 

और आज के इस लेख में हम उन्हें फायदे के बारे में विस्तार से जानेंगे चलिए शुरू करते हैं।

म्युचुअल फंड के फायदे | Advantages Of Mutual Fund

म्युचुअल फंड के फायदे | Best Mutual Fund Ke fayede In Hindi | Mutual Fund Ke Fayede In Hindi | Advantages Of Mutual Fund In Hindi | Mutual Fund Benefits In Hindi | म्युचुअल फंड में निवेश करने के फायदे
Mutual Fund Ke Fayede In Hindi

म्युचुअल फंड के कई फायदे होते हैं चलिए उन सभी फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

सिर्फ एक ही जगह निवेश नहीं होता है | Diversification 

अगर आप अपने पैसे म्यूचुअल फंड में निवेश करते हो तो आपको शेयर, बॉन्ड और अन्य सिक्योरिटी में निवेश करने का मौका मिलता है।

कैसे ???

जब आप किसी म्युचुअल फंड में निवेश करते हो, तो वो म्युचुअल फंड कंपनी आपको ये असुविधा देती है कि आप यह चुन सकते हो कि आपको अपने पैसे किस प्रकार की म्युचुअल फंड में डालने हैं।

अगर आप अपने पैसे इक्विटी म्युचुअल फंड में डालोगे तो आपके पैसे इक्विटी फंड में निवेश होंगे।

वहीं अगर आप अपने पैसे डेट म्युचुअल फंड में डालोगे तो आपके पैसे बंद आदि जैसी चीजों में निवेश होंगे।

यानी कि आप जिस म्युचुअल फंड के प्रकार में निवेश करोगे आपके पैसे उस हिसाब से शेयर, बॉन्ड आदि जैसी चीजों में निवेश होंगे।

एक्सपर्ट द्वारा मैनेज | Professional Management

म्युचुअल फंड में जो पैसे जमा होते हैं उन पैसों को एक्सपट्र्स ( प्रोफेशनल्स ) मैनेज करते हैं। और काफी बढ़िया-बढ़िया कंपनियों में निवेश करते हैं। 

वहीं अगर आप खुद से शेयर मार्केट में निवेश करेंगे तो आपको यह सुविधा बिल्कुल भी नहीं मिलेगी और हो सकता है आपको शुरुआती समय में काफी नुकसान भी हो जाए।

तो अगर आपको शेयर मार्केट की कोई जानकारी नहीं है तो आपको म्युचुअल फंड में निवेश करना चाहिए।

बेचने में आसानी | Liquidity 

लिक्विडिटी यानी आपके निवेश किए हुए पैसे कितनी जल्दी कैश में बदल सकते हैं। 

आसान शब्दों में,

मान लीजिए कि आपने किसी कंपनी में निवेश करके उस कंपनी के कुछ शेयर खरीदे, अब आप कितनी जल्दी उन उन शेर को भेज कर कैश प्राप्त कर सकते हो। इसे ही लिक्विडिटी कहते हैं।

तो अगर आप म्युचुअल फंड में निवेश करते हो तो आप आसानी से अपने पैसे कभी भी निकाल सकते हो। यानी अपने शेयर को बेचकर पैसे निकाल सकते हो।

काफी सस्ता होता है | Affordability

म्युचुअल फंड में निवेश करने के लिए आपको ज्यादा पैसों की जरूरत नहीं होती है आप 100 से 500 रुपए से भी शुरुआत कर सकते है।

अगर आप म्युचुअल फंड में SIP करना चाहते हो तो आपको कम से कम 500 रुपए निवेश करने होंगे।

और अगर आप म्युचुअल फंड में लंपसम में निवेश करना चाहते हो तो आपको कम से कम 100 रुपए निवेश करने होंगे।

सारी चीज उपलब्ध होना | Transparency

म्युचुअल फंड में निवेश करने की और बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें आपको सारी चीज साफ दिखाई देती है यानी कितना क्या फीस है कितने चार्ज है आदि। 

और तो और म्युचुअल फंड में आप यह भी देख सकते हो कि आपने जिस फंड में निवेश किया है उसे फंड ने कहां-कहां पैसे निवेश कर रखे हैं। 

रिटर्न और डिविडेंड के पैसे खुद से निवेश हो जाना | Automatic Reinvest

म्युचुअल फंड मैं निवेश करने पर आपको एक सुविधा यह भी मिलती है कि आप अपने निवेश पर मिलने वाले रिटर्न और डिविडेंड को वापस से निवेश कर सकते हो।

चलिए इस एक उदाहरण से समझते है, मान लीजिए कि आपको अपने पैसे म्युचुअल फंड में निवेश करने हैं तो म्युचुअल फंड कंपनी आपसे यह पूछेगी की आपको Automatic Reinvest करना है या नहीं। 

अगर आप हां करते हो तो आपको आपके निवेश पर जो भी रिटर्न या डिविडेंड मिलता है वह खुद से उसे म्युचुअल फंड में निवेश हो जाता हैं। 

और ऑटोमेटेकली इन्वेस्ट करने पर आपको Compounding का मजा मिलता है। जिससे आपके पैसे ज्यादा तेजी से grow करते है।

म्युचुअल फंड के फायदे – Conclusion

देखिए म्युचुअल फंड के फायदे तो बहुत है लेकिन इसका मतलब यह नहीं की म्युचुअल फंड के नुकसान नहीं है। अगर आप एक नए निवेशक हो तो म्युचुअल फंड में निवेश करना आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा। 

वही अगर आप कोई अच्छे, अनुभवी निवेशक हो और अपने सारे पैसे म्युचुअल फंड में निवेश करते हो तो यह आपके लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है।

जी आपने बिल्कुल सही सुना। म्युचुअल फंड में निवेश करने के नुकसान भी होते हैं।

तो उन नुकसान और फाइनेंस की और भी जरूरी बातों को जानने के लिए हमारे Telegram और Whatsapp Group को ज्वाइन करे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Youtube Group Join Now

नमस्कार दोस्तों ! में इस लेख का लेखक हूँ, मुझे फाइनेंस और बिज़नेस टॉपिक्स पर लेख लिखना पसनद है |

Leave a comment